जैसिंडा अर्डर्न महज़ 37 साल की उम्र में न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री बनने वाली पहली महिला।

जैसिंडा अर्डर्न महज़ 37 साल की उम्र में न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री बनने वाली पहली महिला।

“उम्र से ज्यादा काम बोलता है” इसकी जीती–जागती मिसाल हैं न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री जैसिंडा अर्डर्न। किसी भी देश की सफलता और विकास दो चीजों पर निर्भर करता है।  पहला, वहां की जनता अपने प्रतिनिधि पर कितना भरोसा करती है। और दूसरा वह प्रतिनिधि जनता के भरोसे पर कितना खरा उतरता है। आज दुनिया भर में […]

सिस्टम में रह कर सिस्टम से लड़ने वाले थे श्रीलाल शुक्ल 

सिस्टम में रह कर सिस्टम से लड़ने वाले थे श्रीलाल शुक्ल 

साहित्य में अनेक विद्याएं हैं और हर विद्या स्वयं में एक-दूसरे से अलग है। साथ ही हर विद्या की अपनी खासियत है। आज का युग डिजिटल युग है और आज के समय में फेसबुक, व्हाट्सएप और अन्य सोशल मीडिया पर जितनी रचनाएं तैरती हुए दिखती है, उन अधिकांश रचनाओं में साहित्य की धज्जियां उड़ती हुए दिखती […]

साहिर लुधियानवी – जिंदगी के हर गम को जीने वाला शख्स

साहिर लुधियानवी – जिंदगी के हर गम को जीने वाला शख्स

‘मांग के साथ तुम्हारा, मैंने मांग लिया संसार…’ ‘तुम अगर साथ देने का वादा करो, मैं यूं ही मस्त नगमें लुटाता रहूँ…’ इन गानों को सुनने के बाद मन में सादगी के साथ-साथ सुकून की लहर दौड़ जाती है। इनके बोलों में जितनी गहराई है, उसे अगर महसूस किया जाए तो मन में एक शीतल […]

नाइब बुकेले (Nayib Bukele)

नाइब बुकेले (Nayib Bukele)

दुनिया के तीसरे सबसे कम उम्र के राष्ट्रपति, जिनकी पहचान उनकी ग्लॉसी लैदर जैकेट और स्टाइलिश काले बालों से होती है| हर किसी की ज़िंदगी में मुश्किलें आती हैं| कोई इसका डटकर सामना करता है और जीत हासिल करता है, कोई इन मुश्किलों में फंसकर रह जाता है| ज़िंदगी ऐसे लोगों की कहानियों से भरी […]

दुनिया का सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री

दुनिया का सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री

ऐसा बहुत कम होता है, जैसा आप चाहें वैसा हो जाए या जो आप बनना चाहें वो बन पाएं। ऑस्ट्रिया के चांसलर सेबस्टियन कुर्ज़ की कहानी बिल्कुल ऐसी ही है। ऑस्ट्रिया में ‘प्रधानमंत्री’ को ‘चांसलर ऑफ ऑस्ट्रिया’ कहा जाता है सेबस्टियन कुर्ज़ ऑस्ट्रिया के ही नहीं दुनिया के सबसे कम उम्र के प्रधानमंत्री हैं। उम्र […]

क़िस्सा: मुंशी प्रेमचंद का पहला नाटक जो उन्होंने अपने मामा से छुटकारा पाने के लिए लिखा था

क़िस्सा: मुंशी प्रेमचंद का पहला नाटक जो उन्होंने अपने मामा से छुटकारा पाने के लिए लिखा था

भारतीय साहित्य संसार में प्रेमचंद वह नाम है जिसके बिना कहानियों और उपन्यासों का ज़िक्र करना भी बेमानी है। हिन्दी साहित्य पढ़ने वाले हममें से शायद हर किसी ने अपनी शुरुआत प्रेमचंद की किसी कहानी से ही की होगी। इसके पीछे का कारण यही है कि उनकी कहानियां आम जनमानस से सबसे जल्दी और आसानी […]

धनपत राय के मुंशी प्रेमचंद बनने की कहानी

धनपत राय के मुंशी प्रेमचंद बनने की कहानी

कथा सम्राट, कलम का सिपाही, हिंदी साहित्य के पूरक प्रेमचंद के लिए कितनी ही उपमाओं का प्रयोग किया गया है। पर वो सभी उपमाएं उनके व्यक्तित्व और जीवन के आगे बौनी ही साबित हुई हैं। अपनी सारी ज़िंदगी हिंदी साहित्य को देने वाले प्रेमचंद जितने ही जाने-पहचाने और अपने से लगते हैं। उतने ही अनछुए […]

चन्द्रशेखर आज़ाद

चन्द्रशेखर आज़ाद

 जन्म तारीख: 23 जुलाई  1906,  स्थान : भाबरा (मप्र) 10 अप्रैल 1919 को दो राष्ट्रवादी नेता सत्यपाल और डॉ सैफ़ुद्दीन किचलू अंग्रेज़ों द्वारा गिरफ्तार कर लिए गए। अंग्रेज़ी हुकूमत की इस कार्रवाई से अमृतसर में काफी उत्तेजना फैल गई और लोगो ने 13 अप्रैल 1919 को अमृतसर में जलियांवाला बाग के एक छोटे से […]